हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी


हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले ।


निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन,
बहुत बे‌आबरू हो कर तेरे कूचे से हम निकले ।


मुहब्बत में नही है फर्क जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले ।


ख़ुदा के वास्ते पर्दा ना काबे से उठा ज़ालिम,
कहीं ऐसा ना हो यां भी वही काफिर सनम निकले ।


क़हाँ मैखाने का दरवाज़ा ’ग़ालिब’ और कहाँ वा‌इज़,
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था के हम निकले।

1 comments:

Mandar Mandke said...

classic is a classic

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates