सनसेट पॉईंट - गुलझार

वो पूल के उस किनारे आके खडी हो गई,
जहासे अगला कदम..
जिंदगीका आखरी कदम था
इक भोले-भाले भेड के बच्चे ने उसे रोक दिया
गडरिये भटकी हुई भेडोंको राह दिखाते है
ईसा भी यही करते थे
उसका हात पकडके वो उसे अपने घर ले गया
" अरे! ताल से पानी सूंख गया है
आसमां तो नहीं सूंख गया ?
फ़िर मेघ आएगा..
फ़िर जल भरेगा..
चल!"

 - गुलझार

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates