अच्छा! - गुलझार

रात भर ये मोगरे की
खुशबू कैसी थी
अच्छा ! तो तुम आये थे
नींदों में मेरे ?

 - गुलझार

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates