पतझड़- गुलझार

जब जब पतझड़ में पेड़ों से पीले पीले पत्ते मेरे लान मे आकर गिरते हैं
रात में छत पर जाकर मैं आकाश को तकता रहता हूं
लगता है एक कमज़ोर सा पीला चांद भी शायद 
पीपल के सूखे पत्ते सा लहराता लहराता मेरे लान में आकर उतरेगा

-गुलझार

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates