पेंटींग-१ -गुलझार

रात कल गहरी नींद में थी जब
एक ताज़ा-सफ़ेद कैनवस पर
आतिशीं, लाल -सुर्ख रंगों से
मैं ने रौशन किया था इक सूरज-
सुबह तक जल गया था वह कैनवस
राख बिखरी हु‌ई थी कमरे में..

-गुलझार

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates