पेंटींग-२ -गुलझार

जोरहट में एक दफ़ा
दूर उफ़क के हलके-हलके कुहरे में
’हमीन बरु‌आ’ के चाय बाग़ान के पीछे
चांद कुछ ऎसे दिखा था
जैसे चीनी की चमकीली कैटल रखी हो!

-गुलझार

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates