उडान डायरीज- कविता १

सी धुन वो तुम्हें क्यूँ बुलाती नहीं पास अपने, पड़ा सोचता हूँ;
थाम हाथ लहरें कहाँ ले चलेंगी- रेत पर तुम्हारे खड़ा सोचता हूँ;
खोल खिड़कियाँ जब धूप गुदगुदा‌ए, क्यूँ नींद में पड़े हो, क्या ख्वाब की कमी है?
अखबार और बेड-टी के पार भी है दुनिया - मैं रोज़ इन सवेरों में गड़ा सोचता हूँ..

-सत्यांशु सिंग, देवांशु सिंग

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates