शहर- अमृता प्रीतम

मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है
सड़कें - बेतुकी दलीलों सी
और गलियां इस तरह-
जैसे एक बात को को‌ई इधर घसीटता को‌ई उधर

हर मकान एक मुट्ठी-सा भिंचा हु‌आ
दीवारें-किचकिचाती-सी..
और नालियां, ज्यों मूंह से झाग बहती है ..

यह बहस जाने सूरज से शुरू हु‌ई थी
जो उसे देख कर यह और गरमाती
और हर द्वार के मूंह से
फिर सा‌ईकिलों और स्कूटरों के पहिये
गालियों की तरह निकलते
और घण्टियां-हार्न एक दूसरे पर झपटते ..

जो भी बच्चा इस शहर में जनमता
पूछता कि किस बात पर यह बहस हो रही?
फिर उसका प्रश्न ही एक बहस बनता
बहस से निकलता, बहस में मिलता…

शंख घण्टों के सांस सूखते
रात आती, फिर टपकती और चली जाती

पर नींद में भी बहस खतम न होती
मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है ..

- अमृता प्रीतम

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates