पेंटींग-३- गुलझार

खड़खड़ाता हु‌आ निकला है उफ़क से सूरज
जैसे कीचड़ में फँसा पहिया ढकेला किसी ने
चब्बे-टब्बे-से किनारों पर नज़र आते हैं
रोज़-सा गोल नहीं
उधड़े-उधड़े से उजाले हैं बदन पर
और चेहरे पर खरोंचे के निशान हैं..

-गुलझार

0 comments:

Post a Comment

 
Design by Pocket Blogger Templates